window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

गोरखपुर चिड़ियाघर पहुंचने से पहले ही हीट स्ट्रोक से अजगरों की मौत, अब किया जा रहा ये इंतजाम

विनित पाण्डेय

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Gorakhpur News: गोरखपुर चिड़ियाघर में नए मेहमानों का बेसब्री से इंतजार कर रहे जीव प्रेमियों को निराशा हाथ लगी है. गोरखपुर चिड़ियाघर लाए जा रहे दो रेटिकुलेटेड पाइथन की कानपुर में मौत हो गई. दोनों पाइथन को चेन्नई के जुलॉजिकल पार्क से लाया जा रहा था. दोनों को लेने के लिए कानपुर की टीम गई हुई थी. कानपुर से इन्हें गोरखपुर चिड़ियाघर लाया जाना था कि इससे पहले उनकी मौत हो गई. वहीं, दोनों बोनट बंदर गोरखपुर चिड़ियाघर के अस्पताल में हैं. इन्हें क्वारंटीन की अवधि पूरी करने के बाद बाड़े में भेजा जाएगा.

हीट स्ट्रोक से हुई मौत

गोरखपुर प्राणी उद्यान के चिकित्साधिकारी डॉ योगेश प्रताप सिंह ने बताया, लगभग 2400 किमी की दूरी तय कर इन्हें लाया जा रहा था. चेन्नई से दो बोनट बंदर और दो पाइथन को लेकर टीम चली थी. कानपुर पहुंचते ही गर्मी के कारण दोनों पाइथन को हीट स्ट्रोक हो गया. जहां, इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई.

अब AC में आएंगे पाइथन

चिकित्सकों ने उपचार कर उन्हें बचाने की कोशिश की. दोनों रेटिकुलेटेड पाइथन का वजन 20-20 किलो था और उनकी लंबाई लगभग 12 फीट थी. उन्होंने बताया, जल्द ही एक बार फिर दो पाइथन को गोरखपुर लाने की प्रक्रिया फिर से शुरू की जाएगी. इस बार एयर कंडिशनिंग वाहन का इंतजाम किया जाएगा.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें – गोरखपुर में रात में सोया शख्स, अचानक देखा मोबाइल तो बन गया करोड़पति, जानें कैसे?

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT