सांकेतिक तस्वीर.
सांकेतिक तस्वीर.फोटो: https://ner.indianrailways.gov.in/

गोरखपुर: परिसीमन आदेश के मसौदे में बदले गए वॉर्ड के 'मुस्लिम नाम', सपा ने किया विरोध

Gorakhpur News: गोरखपुर नगर निगम ने एक मसौदा परिसीमन आदेश में लगभग एक दर्जन वॉर्ड के ‘मुस्लिम लगने वाले नाम’ बदल दिए हैं, जिस पर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. नाम बदलना परिसीमन अभ्यास का हिस्सा था, जिसके तहत गोरखपुर में वॉर्ड की कुल संख्या 80 हो गई, जिनमें से कई का नाम प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों और स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखा गया.

अहम बिंदु

अब महाराणा प्रताप, पंडित मदन मोहन मालवीय, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पंडित रामप्रसाद बिस्मिल, शहीद अशफाकउल्ला खान और मातृभूमि के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाली महान हस्तियों के नामों से कई वॉर्ड जाने जाएंगे. मोहद्दीपुर का नाम सरदार भगत सिंह के नाम पर रखा गया है, क्योंकि इस वॉर्ड में सिख समुदाय की भी काफी जनसंख्‍या है.

सिंधी समुदाय के स्वामी झूलेलाल के नाम पर भी एक वॉर्ड का नाम रखा गया है. नौसढ़ में निषाद समुदाय की एक बड़ी आबादी है, इसलिए इसका नाम मत्स्येंद्र नगर रखा गया है. कई वॉर्ड का नाम बाबा गंभीरनाथ, फिराक गोरखपुरी, महात्मा ज्योतिबा फुले, बंधु सिंह, संत झूलेलाल नगर और अन्य विश्व प्रसिद्ध लोगों के नाम पर रखा गया है.

मिया बाजार, मुफ्ती पुर, अलीनगर, तुर्कमानपुर, इस्माइलपुर, रसूलपुर, हुमायूंपुर उत्तरी, घोसीपुरवा, दाउदपुर, जाफरा बाजार, काजीपुर खुर्द, चक्सा हुसैन जैसे मुस्लिम नाम वाले वॉर्ड नामों को बदल दिया गया है. मसलन अब इलाहीबाग को बंधु सिंह नगर, इस्माइलपुर को साहबगंज और जाफरा बाजार को आत्माराम नगर के नाम से जाना जाएगा.

गोरखपुर के महापौर सीताराम जायसवाल ने कहा कि नए नाम गर्व की भावना पैदा करते हैं. महापौर ने कहा कि शहीद अशफाकउल्लाह खान, शिव सिंह छेत्री हमारे लिए सम्मान के प्रतीक हैं, बाबा गंभीर नाथ, बाबा राघवदास, डॉ राजेंद्र प्रसाद, मदन मोहन मालवीय ने हमें संस्कृति और आध्यात्मिकता की विरासत दी और वॉर्ड का नाम ऐसे लोगों के नाम पर रखा गया है.

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने कहा कि वॉर्ड के परिसीमन की अधिसूचना जारी कर दी गई है और आपत्तियों के निस्तारण के बाद परिसीमन को मंजूरी दी जाएगी.

समाजवादी पार्टी के नेता और इस्माइलपुर क्षेत्र के नगरसेवक शहाब अंसारी ने कहा कि पार्टी रविवार को इस संबंध में बैठक करेगी और सोमवार को एक प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी से मुलाकात कर नाम बदलने पर आपत्ति जताएगा. कांग्रेस नेता तलत अजीज ने नाम बदलने की कवायद को पैसे की बर्बादी करार दिया. उन्‍होंने कहा कि 'मैं यह समझने में विफल हूं कि सरकार इस अभ्यास के माध्यम से क्या हासिल करेगी.'

गोरखपुर नगर निगम ने परिसीमन पर एक सप्ताह के भीतर आपत्तियां आमंत्रित की गई हैं. कुल 24 वॉर्ड के नाम महान लोगों के नाम पर रखे गए हैं. गोरखपुर में पहले 70वॉर्ड थे, जो अब 80 हो गए हैं. 2011 की जनगणना के अनुसार एक वॉर्ड की आबादी लगभग 11000 है.

सांकेतिक तस्वीर.
गोरखपुर: जब सीएम की आवाज पर झूमते चले आए बछड़े और नंदी, योगी ने गुड़-चना खिलाकर किया दुलार

Related Stories

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in