गन्ने पर घमासान: टिकैत ने योगी को याद दिलाया घोषणापत्र, कहा- ‘375-450 रुपये का था वादा’

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

केंद्र सरकार के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों की ओर से 27 सितंबर को बुलाए गए ‘भारत बंद’ का असर उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों (खासकर पश्चिमी यूपी) में भी देखने को मिला.

गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने इसे लेकर कहा, ”हमारा भारत बंद सफल रहा. हमें किसानों का पूरा समर्थन मिला… हम सब कुछ सील नहीं कर सकते क्योंकि हमें लोगों की आवाजाही को सुविधाजनक बनाना है. हम सरकार से बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन कोई बातचीत नहीं हो रही है.”

गन्ने के दाम में बढ़ोतरी को लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऐलान पर टिकैत ने कहा, ”उन्होंने (योगी आदित्यनाथ ने) घोषणापत्र में गन्ने का मूल्य बढ़ाकर 375-450 रुपये (प्रति क्विंटल) करने का वादा किया था, फिर भी उन्होंने केवल 25 रुपये ही बढ़ाए. उन्हें नुकसान का भी हिसाब देना चाहिए. सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है. फसलें एमएसपी पर नहीं बिक रही हैं.”

बता दें कि सीएम योगी ने 26 सितंबर को ऐलान किया था, ”अब गन्ना किसानों को 325 रुपये की जगह 350 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से भुगतान किया जाएगा. सामान्य गन्ने के लिए 315 के बजाय 340 रुपये प्रति क्विंटल का भुगतान किया जाएगा.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

बात किसानों के ‘भारत बंद’ की करें दिल्ली से लगे उत्तर प्रदेश के इलाकों में इसका बड़ा असर देखा गया. नोएडा से दिल्ली जाने वाले रास्ते डीएनडी पर गाड़ियों का लंबा जाम रहा. गाजीपुर बॉर्डर पर तो कई महीनों से किसान आंदोलन चल ही रहा है. 27 सितंबर को यहां राकेश टिकैत अपने कैंप में पूरी बेलते हुए भी दिखे.

इसके अलावा न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, नोएडा में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी किसान बैरिकेड्स तोड़कर सेक्टर-6 स्थित नोएडा अथॉरिटी ऑफिस पहुंचे. ये किसान नोएडा अथॉरिटी की ओर से अधिग्रहित की गई अपनी जमीन के मुआवजे में बढ़ोतरी सहित अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

किसानों का भारत बंद: राकेश टिकैत ने पूरी बेली, अखिलेश, मायावती, प्रियंका का बंद को समर्थन

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT