window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

टाटा स्टील के बिजनेस हेड के साथ उस रात हुआ क्या? मर्डर केस गाजियाबाद पुलिस के लिए बना मिस्ट्री

मयंक गौड़

ADVERTISEMENT

Ghaziabad News
Ghaziabad, Ghaziabad News, Ghaziabad Crime, UP Crime, UP News, UP Crime News, Murder Case, Crime News, UP Crime News
social share
google news

Ghaziabad News: उत्तर प्रदेश की गाजियाबाद पुलिस इस समय टाटा स्टील के बिजनेस हेड विनय त्यागी के मर्डर केस में बुरी तरह से उलझी हुई है. हत्याकांड के 2-3 दिन बाद भी गाजियाबाद पुलिस के हाथ अभी तक खाली हैं. इस मामले ने पुलिस की नींद उड़ा दी है. विनय त्यागी की जिस तरह से हत्या की गई है, जिस तरह का ये पूरा घटना क्रम हुआ है, वह अभी तक एक ऐसी गुत्थी बनकर रह गया है, जो लगातार उलझता जा रहा है. मर्डर केस के इस रहस्य के एक भी पर्दे को पुलिस अभी तक नहीं उठा पाई है. आखिर उस रात विनय त्यागी के साथ आखिर क्या हुआ? इसका जवाब ना पुलिस के पास है और ना ही मृतक के परिवार के पास.  

पुलिस द्वारा लगातार क्षेत्र के सीसीटीवी कैमरों को खंगाला जा रहा है. पुलिस मर्डर केस की कड़ियों को जोड़ने की कोशिश तो कर रही है, लेकिन कुछ भी ऐसा हाथ नहीं लग रहा है, जिससे मामले का खुलासा किया जाए. दूसरी तरफ विनय त्यागी के परिवार का साफ कहना है कि हत्याकांड को पूरी योजना के तहत अंजाम दिया गया है. उनके बेटे को पूरी योजना के तहत मारा गया है.

आखिरी बार राजबाग मेट्रो स्टेशन पर अकेले खड़े देखे गए विनय त्यागी

घटना वाले दिन विनय त्यागी को राजबाग मेट्रो स्टेशन पर रात करीब 8 बजकर 27 मिनट पर अकेला खड़ा हुआ देखा गया. इसके बाद रात करीब 11.21 पर उन्होंने अपनी पत्नी को फोन किया और उनको अपनी लोकेशन भेजी. इस दौरान विनय त्यागी ने कहा कि घर में से कोई भी उन्हें यहां लेने आ जाए. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

पत्नी को फोन किए जाने के कुछ ही देर बाद विनय त्यागी ने फिर अपनी पत्नी को फोन किया और कहा कि वह खुद ही घर आ रहे हैं. बताया जा रहा है कि इसके कुछ ही देर बाद जो लोकेशन उन्होंने अपनी पत्नी को भेजी थी, वह भी डिलीट हो गई. इसके बाद वह परिवार को बुरी तरह से जख्मी हालत में नारे में पड़े मिले.

काफी देर हो जाने के बाद परिवार के लोगों ने विनय को फोन किया. मगर उनका फोन नहीं लगा. ये देख परिवार घबरा गया. परिवार के सदस्यों ने विनय की तलाश शुरू कर दी. अपने स्तर से जितना संभव हो सका, परिवार विनय को खोजने के लिए वहां-वहां गया. इसी दौरान घर के थोड़े पास ही परिवार को विनय काफी जख्मी हालत में नारे में पड़े मिले. ये देख परिजनों के होश उड़ गए. वह विनय को फौरन अस्पताल लेकर गए. मगर तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

पर्स, मोबाइल और लैपटॉप सभी था गायब

बता दें कि जिस समय विनय त्यागी परिवार को जख्मी हालत में मिले, उनका पर्स, लैपटॉप और मोबाइल उनके पास से गायब था. शरीर पर कई जगह चाकुओं से हमला किया गया था. चाकू का एक हमला तो दिल के काफी करीब किया गया था. विनय त्यागी कुछ ही समय पहले कोलकाता से दिल्ली आए थे. कंपनी ने उनका ट्रांसफर कोलकाता से दिल्ली कर दिया था. परिवार का कहना है कि उनकी या विनय की किसी से कोई दुश्मनी भी नहीं थी.

ADVERTISEMENT

परिवार 'लूट के लिए हत्या' मानने को तैयार नहीं है. परिवार का कहना है कि पूरी योजना के तहत इस घटना को अंजाम दिया गया है. जिस तरह से विनय त्यागी द्वारा अपनी पत्नी को भेजी गई लोकेशन डिलीट हुई है, उसने शक को और गहरा कर दिया है.

पुलिस की 8 टीम कर रही घटना की जांच

इस पूरे मामले पर डीसीपी ट्रांस हिंडन निमिष पाटिल का कहना है कि इस केस में पुलिस की 8 टीम लगी हुई हैं, जो घटना की जांच कर रही हैं. पुलिस को जांच के दौरान संदिग्ध बाइक सवार दिखे हैं, जो मृतक विनय त्यागी के आस-पास नजर आए हैं. पुलिस का कहना है कि वह जल्द ही इस पूरे मामले का खुलासा कर देगी.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT