बाराबंकी सड़क हादसा: किसी ने जवान बेटा खोया, किसी ने पति, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में 7 अक्टूबर की सुबह एक भयानक सड़क हादसा हुआ. इस हादसे में दिल्ली से बहराइच जा रही एक बस और…
social share
google news

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में 7 अक्टूबर की सुबह एक भयानक सड़क हादसा हुआ. इस हादसे में दिल्ली से बहराइच जा रही एक बस और बालू लदे ट्रक की भिड़ंत हो गई. आमने-सामने की इस टक्कर में 15 लोगों की मौत हो गई. इस सड़क हादसे के कारण कई परिवार उजड़ गए हैं. वहीं, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर दुख जताते हुए मृतक परिवारों को दो-दो लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है.

इस दर्दनाक सड़क हादसे में किसी का जवान बेटा मर गया तो किसी का सुहाग उजड़ गया.

पति की मौत के बाद पत्नी का रो- रोकर बुरा हाल

बाराबंकी में हुए भीषण सड़क हादसे में व्यापारी अब्दुल रहमान की मौत हो गई. अब्दुल रहमान अपनी मोबाइल-इलेक्ट्रिक शॉप चलाते थे. वह दिल्ली से सामान खरीदने गए थे. सड़क हादसे में हुई मौत से उनकी पत्नी का रो- रोकर बुरा हाल है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

पिता के सामने जवान बेटे की लाश

इस हादसे में करनैलगंज, गोंडा के रहने वाले विनोद की भी मौत हो गई. उनके पिता रामस्वरूप का भी रो-रोकर बुरा हाल है. विनोद हिमाचल प्रदेश के मनाली जिले में सेब की पैकिंग का काम करते थे. इसी काम से वह अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे. विनोद के तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं.

ADVERTISEMENT

पिता रामस्वरूप का कहना है कि हमारा बेटा अब इस दुनिया से चला गया, लेकिन उसके परिवार का पालन पोषण कौन करेगा? जब यह खबर विनोद के गांव पहुंची तो वहां कोहराम मचा गया है. वहीं, विनोद की डेड बॉडी पोस्टमॉर्टम होने के बाद बाराबंकी जिला प्रशासन ने करनैलगंज भिजवा दी है.

दिल्ली में जूस बेचने वाले कदीर की भी हादसे में मौत

इस सड़क हादसे में बहराइच का एक परिवार भी उजड़ गया है. दिल्ली में जूस का ठेला लगाने वाले कदीर अपने परिवार से मिलने के लिए दिल्ली से बहराइच जा रहे थे, लेकिन बीच रास्ते में हादसे की वजह से उनकी मौत हो गई.

कदीर की मौत की खबर के बाद से भाई,पत्नी और बेटी तो बेहाल हो गए हैं. परिजनों को जैसे ही इसकी खबर पता चली, वे बाराबंकी जिला अस्पताल पहुंच गए.

घायल मीनू ने बहनोई, भाई और रिश्तेदार को खोया

हादसे में घायल गोंडा निवासी मीनू ने बताया, “हम भी बस में थे. हादसे में हमारे रिश्ते के बहनोई, भाई और दोस्त की मौत हुई हो गई. हम तीनों लोग हिमाचल प्रदेश के मनाली में सेब की पैकिंग के लिए गए थे. वहां से दिल्ली होते हुए अपने गांव वापस जा रहे थे. रास्ते में हमें नींद आ गई. एक झटके में जब नींद खुली तो सब उजड़ गया था. मेरे जीजा, चाचा का लड़का समेत तीन लोगों की हादसे में मौत हो गई. बस में लगभग 70-75 लोग सवार थे. मेरे सामने हादसे में 9-10 लोग खत्म हो गए.”

गोंडा के दीपू का पड़ोसी भी हुआ शिकार

सड़क हादसे को लेकर गोंडा के दीपू ने बताया कि हमारे रिश्ते के भाई और पड़ोस में रहने वाले रमन की इस हादसे में मौत हुई है, वह मनाली सेब की पैकिंग का काम करने गया था. जब रमन की मौत की खबर उनके परिजनों को पता चली तो घर में मातम पसर गया. परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है.

बाराबंकी: भयानक सड़क हादसा, बस और बालू लदे ट्रक की हुई भिड़ंत, अबतक 15 लोगों की मौत

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT