रामपुर लोकसभा उपचुनाव: आजम खान ने साधा नवाब परिवार पर निशाना और दे दिया ये विवादित बयान

रामपुर लोकसभा उपचुनाव: आजम खान ने साधा नवाब परिवार पर निशाना और दे दिया ये विवादित बयान
फोटो: यूपी तक

रामपुर लोकसभा सीट से आजम खान के रिजाइन करने के बाद हो रहे उपचुनाव में चुनाव प्रचार तेजी पकड़ता जा रहा है. 27 माह जेल में रहने के बाद बाहर आए आजम खान भी धीरे-धीरे अपनी फॉर्म में आते जा रहे हैं.

रामपुर उपचुनाव में एक जनसभा को संबोधित करते हुए आजम खान ने अपनी जेल का हाल सुनाकर सपा उम्मीदवार के लिए एक वोट मांग रहे हैं. इस दौरान वह विरोधियों पर निशाना साध रहे हैं. इस बार उनके निशाने पर फिर से आया नवाब परिवार. नवाब परिवार पर निशाना साधते-साधते आज़म विवादित बयान दे दिए.

आजम ने कहा, "नवाबज़ादा की नवाब कहलाने वाली औलादों को हिजड़ों का वोट भी नहीं मिला, वो रामपुर वालों को मशवरा देते हैं. एक ही घर में पंजे (कांग्रेस) और कमल (बीजेपी) के लिए वोट मांगा जाता है."

अब उन्होंने नवाब परिवार पर जैसी टिप्पणी की है, दोनों परिवारों के बीच विवाद बढ़ना तय है. दरअसल, आजम खान और नवाब परिवार के बीच की अदावत काफी पुरानी है. विधानसभा चुनाव में नवाब काजिम अली आजम खान के खिलाफ तो उनके बेटे अब्बदुल्ला आजम के खिलाफ चुनाव लड़े थे.

इस लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार ना उतारने पर नवाब काजिम अली काफी नाराज भी हुए थे और उन्होंने आजम और उनके करीबी सपा उम्मीदवार असीम राजा को हराने के लिए बीजेपी कैंडिडेट को अपना समर्थन दिया है.

ऐसे में वो आजम खान के लिए बड़ी चुनौती भी हैं. कहा जा रहा है कि आजम को डर वोट बैंक बंटने का सता रहा है. ऐसा नहीं है कि रामपुर आजम खान के लिए अभेद्य किला रहा हो. उनकी मर्जी के बगैर मुलायम सिंह यादव ने यहां से दो बार जया प्रदा को चुनावी मैदान में उतार कर चुनाव जिताया.

वहीं, साल 2014 की मोदी लहर में डॉ. नेपाल सिंह ने आजम खान के किला को फतह किया था. इस बार भाजपा ने आजम के ही करीबी घनश्याम लोधी को चुनावी मैदान में उतार कर साल 2014 वाली चाल चली है. ऐसे में आजम अपने पुराने साथ की जगह परंपरागत प्रतिद्वंद्वी को निशाने पर लिए हुए हैं.

रामपुर लोकसभा उपचुनाव: आजम खान ने साधा नवाब परिवार पर निशाना और दे दिया ये विवादित बयान
रामपुर: मुकदमा लिखवाना था तो ताजमहल और कुतुबमीनार की चोरी का लिखवाते- आजम खान

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in