UP चुनाव 2022: क्या बहराइच जिले में दबदबा बरकरार रख पाएगी BJP?
बहराइच से एक तस्वीर(फाइल फोटो: इंडिया टुडे)

UP चुनाव 2022: क्या बहराइच जिले में दबदबा बरकरार रख पाएगी BJP?

उत्तर प्रदेश का बहराइच जिला घने जंगलों और तेजी से बहने वाली नदियों के लिए जाना जाता है. कुछ इतिहासकारों के मुताबिक, यह जगह “भर” राजवंश की राजधानी थी, इसलिए इसे “भारिच” कहा जाता था. भारिच बाद में “बहराइच” के रूप में जाना जाने लगा.

बहराइच जिले में 7 विधानसभा क्षेत्र हैं. साल 2017 के विधानसभा चुनाव में यहां बीजेपी का दबदबा देखने को मिला था, जब उसने इस जिले की 6 सीटों पर जीत हासिल की थी.

चलिए, देखते हैं कि पिछले दो विधानसभा चुनावों में इस जिले की सियासी तस्वीर किस तरह बदली है.

1. बलहा (एससी)

2017: बलहा सीट पर इस चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार अक्षयबर लाल ने बीएसपी उम्मीदवार किरन भाटी को 46616 वोटों से हराया था.

2012: इस चुनाव में भी बलहा सीट बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी की सावित्री बाई फुले ने बीएसपी उम्मीदवार किरन भाटी को 19928 वोटों से हराया था.

2. नानपारा

2017: इस चुनाव मेम नानपारा सीट पर भी बीजेपी की जीत हुई थी. बीजेपी उम्मीदवार माधुरी वर्मा ने कांग्रेस के वारिस अली को 18669 वोटों से हराया था.

2012: नानपारा सीट पर इस चुनाव में कांग्रेस की टिकट पर उतरीं माधुरी वर्मा ने बीएसपी उम्मीदवार वारिस अली को 4322 वोटों से हराया था.

3. मटेरा

2017: मटेरा सीट पर इस चुनाव में एसपी के यासर शाह ने बीजेपी उम्मीदवार अरुण वीर सिंह को 1595 वोटों से हराया था.

2012: इस चुनाव में भी मटेरा सीट पर एसपी उम्मीदवार यासर शाह की जीत हुई थी. उन्होंने कांग्रेस के अली अकबर को 2801 वोटों से हराया था.

4. महसी

2017: इस चुनाव में महसी सीट पर भी बीजेपी की जीत हुई थी. बीजेपी के सुरेश्वर सिंह ने कांग्रेस उम्मीदवार अली अकबर को 58969 वोटों से हराया था.

2012: महसी सीट पर इस चुनाव में बीएसपी उम्मीदवार कृष्ण कुमार ओझा ने बीजेपी के सुरेश्वर सिंह को 2489 वोटों से हराया था.

5. बहराइच

2017: बहराइच सीट भी इस चुनाव में बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी उम्मीदवार अनुपमा जायसवाल ने एसपी उम्मीदवार रुबाब सयैदा को 6702 वोटों से हराया था.

2012: इस चुनाव में बहराइच सीट पर एसपी की जीत हुई थी. एसपी उम्मीदवार वकार अहमद शाह ने कांग्रेस के चंद्र शेखर सिंह को 15496 वोटों से हराया था.

6. पयागपुर

2017: पयागपुर सीट पर इस चुनाव में बीजेपी के सुभाष त्रिपाठी ने एसपी उम्मीदवार मुकेश श्रीवास्तव उर्फ ज्ञानेंद्र प्रताप को 41541 वोटों से हराया था.

2012: इस चुनाव में कांग्रेस की टिकट पर उतरे मुकेश श्रीवास्तव उर्फ ज्ञानेंद्र प्रताप ने बीएसपी उम्मीदवार अजित प्रताप सिंह को 27046 वोटों से हराया था.

7. कैसरगंज

2017: इस चुनाव में कैसरगंज सीट पर बीजेपी उम्मीदवार मुकुट बिहारी ने बीएसपी के खालिद खान को 27363 वोटों से हराया था.

2012: कैसरगंज सीट पर इस चुनाव में भी बीजेपी के मुकुट बिहारी की जीत हुई थी. उन्होंने एसपी उम्मीदवार राम तेज यादव को 6968 वोटों से हराया था.

उत्तर प्रदेश में अपनी खोई हुई सियासी जमीन तलाश रही कांग्रेस ने इस जिले में 2012 के विधानसभा चुनाव में 2 सीटें जीती थीं, जबकि 2017 के चुनाव में यहां उसके खाते में एक भी सीट नहीं आई. ऐसे में आगामी विधानसभा चुनाव में बहराइच जिले में इस बात पर भी निगाहें रहेंगी कि कांग्रेस यहां कैसा प्रदर्शन करती है.

बहराइच से एक तस्वीर
मोदी सरकार ने जब कैंसिल किया योगी का विदेश दौरा, फिर बदली किस्मत

Related Stories

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in