UP चुनाव:बागपत जिले का सियासी हाल, इस बार BJP के सामने बड़ी चुनौती
बागपत जिले के एक गांव से तस्वीर(फोटो: इंडिया टुडे)

UP चुनाव:बागपत जिले का सियासी हाल, इस बार BJP के सामने बड़ी चुनौती

महाभारत के पांडव बंधुओं की ओर से स्थापित बागपत को मूल रूप से व्याघ्रप्रस्थ (टाइगरसिटी) के रूप में जाना जाता था क्योंकि बाघों की आबादी कई शताब्दियों पहले मिली थी. मुगल काल के दौरान इसका नाम बागपत कर दिया गया था.

जाटों के अच्छे खासे प्रभाव वाला पश्चिमी उत्तर प्रदेश का यह जिला राजनीतिक रूप से भी काफी अहम रहा है. बागपत लोकसभा सीट से, किसानों के बीच लोकप्रिय नेता चौधरी चरण सिंह सांसद रहे थे.

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में इस जिले की 3 सीटों में से 2 पर बीएसपी ने जीत दर्ज की थी, जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में यहां बीजेपी ने 2 सीटें जीती थीं.

बागपत जिले में आरएलडी भी एक प्रभावी पार्टी है. ऐसे में देखते हैं कि पिछले दो विधानसभा चुनावों में इस जिले की सियासी तस्वीर किस तरह बदली है.

1. छपरौली

2017: इस चुनाव में छपरौली सीट पर आरएलडी के सहेंद्र सिंह रमाला ने बीजेपी उम्मीदवार सतेंद्र सिंह को 3842 वोटों से हराया था.

2012: छपरौली सीट इस चुनाव में भी आरएलडी के खाते में गई थी. आरएलडी उम्मीदवार वीर पाल ने बीएसपी के देव पाल सिंह को 21571 वोटों से हराया था

2. बड़ौत

2017: बड़ौत सीट पर इस चुनाव में बीजेपी की जीत हुई थी. बीजेपी उम्मीदवार कृष्णपाल मलिक ने आरएलडी के साहब सिंह को 26486 वोटों से हराया था.

2012: बीएसपी उम्मीदवार लोकेश दीक्षित ने इस चुनाव में आरएलडी के अश्विनी कुमार को 5676 वोटों से हराया था.

3. बागपत

2017: बागपत सीट भी इस चुनाव में बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी के योगेश धामा ने बीएसपी उम्मीदवार अहमद हमीद को 31360 वोटों से हराया था.

2012: इस चुनाव मेम बागपत सीट पर भी बीएसपी की जीत हुई थी. यहां बीएसपी उम्मीदवार हेमलता चौधरी ने आरएलडी के कोकब हमीद खान को 7663 वोटों से हराया था.

माना जा रहा है कि बीजेपी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के 3 नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन का सियासी असर बागपत जिले में भी देखने को मिल सकता है. अगर 2022 के विधानसभा चुनाव में ऐसा हुआ तो यहां बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

बागपत जिले के एक गांव से तस्वीर
चंद्रशेखर क्यों बोले- 'मायावती को मुझसे इन्सिक्योरिटी है शायद'

Related Stories

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in