UP चुनाव: कासगंज में सभी 3 सीटों पर क्या बीजेपी वापसी कर पाएगी?

कासगंज में कुल 3 विधानसभा सीटें हैं. जिले की सभी 3 सीटें बीजेपी के पास हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा-बसपा-कांग्रेस के खाते में कोई सीट गई थी.
UP चुनाव: कासगंज में सभी 3 सीटों पर क्या बीजेपी वापसी कर पाएगी?
कासगंज में अप्रैल 2014 में बीजेपी के त्तकालीन अध्यक्ष राजनाथ सिंह और भाजपा के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह. फोटो: इंडिया टुडे आर्काइव

कासगंज में कुल 3 विधानसभा सीटें हैं. 2012 के विधानसभा चुनाव में 3 में से 2 सीटों पर सपा का कब्जा था, जबकि एक सीट पर बसपा का कब्जा था. 2012 में एक भी सीट नहीं जीतने वाली बीजेपी 2017 के विधानसभा चुनाव मे कमाल का प्रदर्शन कर जिले की सभी 3 सीटों पर कब्जा किया था. विधानसभा चुनाव 2012 से 2017 में सभी विधानसभा सीटों पर तस्वीरें कैसी बदली, आइए एक नज़र डालते हैं.

कासगंज में कुल 3 विधानसभा सीटें-

  • कासगंज विधानसभा

  • अमांपुर विधानसभा

  • पटियाली विधानसभा

कासगंज विधानसभा

2017: विधानसभा चुनाव 2017 में यह सीट बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी के देवेन्द्र सिंह राजपूत ने 1 लाख 19 हजार 8 वोट पाकर सपा के हसरत उल्ला शेरवानी को 52 हजार 30 वोटों से हराया था. बसपा के अजय चुर्तेवेदी 37 हजार 818 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

2012: विधानसभा चुनाव 2012 में इस सीट पर सपा का कब्जा था. सपा के मन पाल सिंह ने 48 हजार 535 वोट पाकर बसपा के हसरत उल्ला शेरवानी को 10 हजार 197 वोटों से हराया था. जेएकेपी के देवेन्द्र सिंह 35 हजार 47 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

अमांपुर विधानसभा

2017: विधानसभा चुनाव 2017 में यह सीट बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी के देवेन्द्र प्रताप ने 85 हजार 199 वोट पाकर सपा के वीरेंद्र सिंह सोलंकी को 41 हजार 804 वोटों से हराया था. बसपा के देव प्रकाश 33 हजार 166 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

2012: विधानसभा चुनाव 2012 में इस सीट पर बसपा का कब्जा था. बसपा के ममतेश ने 37 हजार 996 वोट पाकर सपा के वीरेंद्र सिंह को 3 हजार 656 वोटों से हराया था. जेएकेपी के देवेन्द्र प्रताप 30 हजार 463 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

पटियाली विधानसभा

2017: विधानसभा चुनाव 2017 में यह सीट बीजेपी के खाते में गई थी. बीजेपी के ममतेश ने 72 हजार 414 वोट पाकर सपा की किरण यादव को 3 हजार 771 वोटों से हराया था. बसपा के धीरेन्द्र बहादुर सिंह 44 हजार 131 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

2012: विधानसभा चुनाव 2012 में इस सीट पर सपा का कब्जा था. सपा की नवजीवा खान जीनत ने 62 हजार 493 वोट पाकर बसपा के सूरज सिंह शाक्य को 27 हजार 775 वोटों से हराया था. एमडी के श्याम सुंदर गुप्ता 28 हजार 181 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने चौंकाने वाला प्रदर्शन कर सभी 3 सीटों पर जीत हासिल की थीं. दरअसल, 2012 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी का खाता नहीं खुल पाया था. ऐसे में, इस बार देखना बेहद दिलचस्प रहेगा कि क्या बीजेपी 2022 में भी 2017 की तरह प्रदर्शन कर पाएगी या एक बार फिर विपक्ष को मिलेगा मौका.

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in