कुश्ती संघ के एडिशनल सेक्रेटरी विनोद तोमर के खिलाफ खेल मंत्रालय ने लिया ये बड़ा एक्शन

विनोद तोमर
विनोद तोमरफोटो: यूपी तक

भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के एडिशनल सेक्रेटरी विनोद तोमर को खेल मंत्रालय द्वारा निलंबित कर दिया गया. शनिवार को इस मामले में खेल मंत्रालय की तरफ से यह कार्रवाई जांच कमेटी बनाने के बाद की गई है.

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और यूपी के कैसरगंज से बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों से यौन शोषण और उन्हें धमकाने के आरोप लगे हैं.

शनिवार को मीडिया से बातचीत करने के दौरान सेक्रेटरी विनोद तोमर ने कहा था कि WFI के अध्यक्ष के पद पर बृजभूषण शरण सिंह अभी भी काबिज हैं लेकिन जांच चलने तक अपने आप को किसी भी आधिकारिक काम से दूर रखेंगे.

उन्होंने ये भी कहा था कि फेडरेशन के ज्यादातर लोग बृजभूषण शरण सिंह के साथ हैं और व्यक्तिगत तौर पर भी मुझे खिलाड़ियों के आरोप सही नहीं लगते. जांच की रिपोर्ट आने तक बृजभूषण शरण सिंह फिलहाल इस मामले में कुछ नहीं कहेंगे और उसी के बाद आरोपों को लेकर अपनी बात सामने रखेंगे.

वहीं, शनिवार को डब्ल्यूएफआई ने अपने अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न सहित सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि खेल निकाय में ‘मनमानेपन और कुप्रबंधन की कोई गुंजाइश नहीं है.’

डब्ल्यूएफआई ने खेल मंत्रालय को अपने जवाब में कहा था, ‘‘डब्ल्यूएफआई का प्रबंधन उसके संविधान के अनुसार एक निर्वाचित निकाय द्वारा किया जाता है, ऐसे में डब्ल्यूएफआई में अध्यक्ष सहित किसी एक द्वारा व्यक्तिगत रूप से मनमानी और कुप्रबंधन की कोई गुंजाइश नहीं है.’’

बता दें कि WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के विरोध में जंतर-मंतर पर पहलवानों का विरोध-प्रदर्शन शुक्रवार देर रात समाप्त हो गया.बृजभूषण शरण सिंह पर लगे आरोपों की जांच करने के लिए भारतीय ओलंपिक संघ और खेल मंत्रालय ने भी कमेटी का गठन किया है.

बृजभूषण सिंह पर ओलंपियन विनेश फोगाट समेत अन्य पहलवानों ने यौन शोषण और धमकी देने का आरोप लगाया है.

ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक, विश्व चैम्पियनशिप पदक विजेता विनेश फोगाट सहित प्रतिष्ठित भारतीय पहलवान पिछले 3 दिनों से जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे थे. शुक्रवार देर रात उनका यह धरना खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ बैठक के बाद खत्म हुआ था.

विनोद तोमर
बृजभूषण शरण सिंह को मिला बसपा सांसद श्याम सिंह यादव का साथ, कहा- उनपर लगे सभी आरोप गलत हैं

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in