'रामचरित मानस पर लगे बैन...', सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का विवादित बयान

'रामचरित मानस पर लगे बैन...', सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का विवादित बयान
फाइल फोटो: मेल टुडे

बिहार के शिक्षा मंत्री का रामचरितमानस को लेकर बयान का मामला शांत नहीं हुआ था कि अब एक और नेता ने धार्मिक ग्रंथ पर विवादित बयान दिया है. समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरितमानस को बैन करने की मांग की. उन्होंने कहा कि इसके कुछ हिस्से पर मुझे आपत्ति है. सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने यूपा तक से बातचीत में कहा कि धर्म कोई हो हम तो उसका सम्मान करते हैं. लेकिन धर्म के नाम पर जाति विशेष, वर्ग विशेष को अपमानित करने का काम किया गया है. हम उस पर आपत्ति दर्ज कराते हैं.

अहम बिंदु

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि तुलसीदास की रामचरितमानस में कुछ अंश ऐसे हैं जिनपर आपत्ति है. किसी भी धर्म में किसी को भी गाली देने का अधिकार नहीं है. तुलसी बाबा की रामायण की चौपाई है, इसमें वह शुद्रों को अधम जाति का होने का सर्टिफिकेट दे रहे हैं.

स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि कई करोड़ लोग रामचरित मानस को नहीं पढ़ते, सब बकवास है. यह तुलसीदास ने अपनी खुशी के लिए लिखा है. स्वामी प्रसाद मौर्य यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि कि सरकार को इसका संज्ञान लेते हुए रामचरित मानस से जो आपत्तिजनक अंश है, उसे बाहर करना चाहिए या इस पूरी पुस्तक को ही बैन कर देना चाहिए. सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य बोले कि ब्राह्मण भले ही लंपट,  दुराचारी, अनपढ़ और गंवार हो, लेकिन वह ब्राह्मण है तो उसे पूजनीय बताया गया है, लेकिन शूद्र शूद्र कितना भी ज्ञानी, विद्वान या फिर ज्ञाता हो, उसका सम्मान मत करिए. क्या यही धर्म है? अगर यही धर्म है तो ऐसे धर्म को मैं नमस्कार करता हूं.

उन्होंने कहा कि जब इनकी किसी बात पर टिप्पणी की जाती है, तो चंद मुट्ठीभर धर्म के ठेकेदार जिनकी इसी पर रोजी-रोटी चलती है वह कहते हैं कि हिंदू भावना आहत हो रही है.

स्वामी प्रासद मौर्या ने बागेश्वर धाम वाले धीरेंद्र शास्त्री पर कहा कि इस देश का दुर्भाग्य है कि धर्म के ठेकेदार धर्म को नीलाम कर रहे हैं. तमाम समाज सुधारकों के प्रयास से देश आज तरक्की के रास्ते पर चल पड़ा है लेकिन ऐसे ही दकियानूसी सोच वाले बाबा समाज में रूढ़िवादी परंपराओं, ढकोसला, अंधविश्वास पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. जब सभी दवा बाबा के पास है तो सरकार फालतू में मेडिकल कॉलेज, अस्पताल चला रही हैं. सब जाकर बाबा के यहां दवा ले ले. सारे पढ़े-लिखे डॉक्टर बेकार हो गए बाबा दवा करेंगे. बाबा ढोंग ढकोसला फैला रहे हैं ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. ऐसे लोगों को जेल में डाल देना चाहिए जो भारत के संविधान की भावनाओं को आहत करते हो.

'रामचरित मानस पर लगे बैन...', सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का विवादित बयान
खुशी दुबे के घर के बाहर आधी रात को पुलिस ने लगवाया CCTV कैमरा, वकील ने किया ये बड़ा दावा

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in