बिकरू कांड की आरोपी खुशी दुबे 30 महीने बाद जेल से रिहा, बेटी को देखकर रो पड़ी मां

बिकरू कांड की आरोपी खुशी दुबे 30 महीने बाद जेल से रिहा, बेटी को देखकर रो पड़ी मां
फोटो - सूरज सिंह

कानपुर बिकरू कांड की आरोपी अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे की आज शाम 7 बजे जेल से रिहाई हो गई. खुशी की रिहाई के समय उनके माता-पिता और वकील जेल के बाहर पहुंच गए थे. वहीं रिहाई के बाद वह अपने परिवार के साथ घर चली गई.इससे पहले खुशी ने रोते हुए सभी का आभार व्यक्त किया था. इस दौरान उन्होंने जमानत मिलने पर खुशी जताई और कुछ भी बोलने से मना कर दिया.

अहम बिंदु

वहीं खुशी के माता-पिता का कहना है कि न्याय में समय लगा, लेकिन न्याय मिला है. खुशी दुबे को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिली है.

आपको बता दें कि बिकरू कांड से जुड़े फर्जी सिम कार्ड मामले में किशोर न्याय बोर्ड ने खुशी का रिहाई परवाना जिला कारागार भेज दिया था. बता दें कि 29 जून 2020 को खुशी की अमर दुबे से शादी हुई थी. शादी के कार्यक्रम बिकरू गांव में ही हुआ था. खुशी को पुलिस ने आठ जुलाई को खुशी को गिरफ्तार कर जेल भेजा था. बता दें कि बिकरू गांव में दो जुलाई 2020 को दबिश देने गई पुलिस टीम पर विकास दुबे गैंग ने फायरिंग कर दी थी. घटना में आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी, जबकि कई लोग घायल हो गए थे.

मामले में पुलिस ने अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे पर हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती के साथ ही फर्जी दस्तावेज लगा सिम लेने का मुकदमा दर्ज कराया था. बचाव पक्ष की प्रार्थना पत्र को स्वीकारते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आरोपित खुशी दुबे को जमानत मंजूर की थी.

पुलिस ने अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे पर हमलावरों को उकसाने के आरोप में केस दर्ज किया गया था. खुशी दुबे को सह अभियुक्त बनाकर जेल भेज दिया गया था. वहीं , कोर्ट ने भी माना था कि बिकरू कांड के दौरान खुशी नाबालिग थी. नाबालिग होने कि वजह से खुशी को बालसुधार गृह में रखा गया था. जब खुशी बालिग हो गई, तो उसे कानपुर देहात की माती जेल में शिफ्ट कर दिया गया था.

बिकरू कांड की आरोपी खुशी दुबे 30 महीने बाद जेल से रिहा, बेटी को देखकर रो पड़ी मां
आज के दिन 2 साल पहले हुआ था बिकरू कांड, विकास दुबे के 'आतंक' के बाद गांव में हुए ये बदलाव

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in